Rang Aur Noor Ki Baraat Lyrics in Hindi & English

Song Name : Rang Aur Noor Ki Baraat
Album / Movie : Gazal
Star Cast : Sunil Dutt, Meena Kumari Mehmood, Prithviraj Kapoor
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Madan Mohan Kohli
Lyrics by : Sahir Ludhianvi
Music Label : Saregama

Rang Aur Noor Ki Baraat Lyrics in Hindi

रंग और नूर की बारात
किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूं
रंग और नूर की बारात
किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ

मैंने जज़्बात निभाए हैं
उसूलों की जगह
मैंने जज़्बात निभाए हैं
ुसुओं की जगह
अपने अरमान पिरो लाया हूँ
फूलों की जगह
तेरे चेहरे की
तेरे चेहरे की ये सौगात
किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ

ये मेरे शेर मेरे
आखरी नज़राने हैं
ये मेरे शेर मेरे
आखरी नज़राने हैं
मैं उन अपनों में हैं
जो आज से बेगाने हैं
बेतालुक़ सी मुलाक़ात
किसे पेश करूँ
बेतालुक़ सी मुलाक़ात
किसे पेश करूँ
ये मुर्दों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ

सुर्ख जोड़े की तबोताब
मुबारक हो तुझे
सुर्ख जोड़े की तबोताब
मुबारक हो तुझे
तेरी आँखों का नया ख्वाब
मुबारक हो तुझे
ये मेरी ख्वाहिश ये ख़यालात
किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ

कौन कहता है के चाहत पे
सभी का हक़ है
कौन कहता है के चाहत पे
सभी का हक़ है
तू जिसे चाहे तेरा प्यार
उसी का हक़ है
मुझसे खड़े
मुझसे कहदे मैं तेरा हाथ
किसे पेश करूँ
मुझसे कहदे मैं तेरा हाथ
किसे पेश करूँ
ये मुर्दों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ
रंग और नूर की बारात
किसे पेश करूँ
ये मुरादों की हसीं रात
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ
किसे पेश करूँ.

Rang Aur Noor Ki Baraat Lyrics in English

Rang aur noor ki baraat
kise pesh karun
Ye muraadon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karoon
Rang aur noor ki baraat
kise pesh karun
Ye muraadon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karun

Maine jazbaat nibhaye hain
usulon ki jagah
Maine jazbaat nibhaye hain
usuon ki jagah
Apne armaan piro laya hun
phulon ki jagah
Tere chehre ki
Tere chehre ki ye saugaat
kise pesh karun
Ye muraadon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karun

Ye mere sher mere
aakhri nazraane hain
Ye mere sher mere
aakhri nazraane hain
Main un apnon mein hain
Jo aaj se begaane hain
Betaaluq si mulaaqaat
kise pesh karun
Betaaluq si mulaaqaat
kise pesh karun
Ye muradon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karun

Surkh jode ki tabotaab
mubaarak ho tujhe
Surkh jode ki tabotaab
mubaarak ho tujhe
Teri aankhon ka naya khwab
mubaarak ho tujhe
Ye meri khwaahish ye khayalat
kise pesh karun
Ye muraadon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karun

Kaun kahta hai ke chaahat pe
sabhi ka haq hai
Kaun kahta hai ke chaahat pe
sabhi ka haq hai
Tu jise chaahe tera pyaar
usi ka haq hai
Mujhse kahde
Mujhse kahde main tera haath
kise pesh karun
Mujhse kahde main tera haath
kise pesh karun
Ye muradon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karun
Rang aur noor ki baraat
kise pesh karun
Ye muraadon ki haseen raat
kise pesh karun
Kise pesh karun
kise pesh karun
Kise pesh karun
kise pesh karun.

Leave a Comment