Ishq Ki Garmi E Jazbaat Lyrics in Hindi & English

Song Name : Ishq Ki Garmi E Jazbaat
Album / Movie : Gazal
Star Cast : Sunil Dutt, Meena Kumari Mehmood, Prithviraj Kapoor
Singer : Mohammed Rafi
Music Director : Madan Mohan Kohli
Lyrics by : Sahir Ludhianvi
Music Label : Saregama

Ishq Ki Garmi E Jazbaat Lyrics in Hindi

हम्म हम्म हम्म
हम्म हम्म हम्म
हम्म हम्म हम्म

इश्क़ की गर्मी े जज़्बात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी े जज़्बात किसे पेश करूं
ये सुलगते हुए दिन रात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी े जज़्बात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी े

हुस्न और हुस्न का हर नाज़ है परदे में अभी
हुस्न और हुस्न का हर नाज़ है परदे में अभी
अपनी नज़रों की शिकायत किसे पेश करूं
अपनी नज़रों की शिकायत किसे पेश करूं
इश्क़ के गर्मी इ

तेरी आवाज़ के जादू ने जगाया है जिन्हें
तेरी आवाज़ के जादू ने जगाया है जिन्हें
वो तस्सवुर वो ख़यालात किसे पेश करूं
वो तस्सवुर वो ख़यालात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी े

ऐ मेरी जान ए ग़ज़ल
ऐ मेरी ईमान े ग़ज़ल
ऐ मेरी जान ए ग़ज़ल
ऐ मेरी ईमान े ग़ज़ल
अब सिवा तेरे
ये नग़मात किसे पेश करूं
अब सिवा तेरे
ये नग़मात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी े

कोई हमराज़ तो पाऊं
कोई हमदम तो मिले
कोई हमराज़ तो पाऊं
कोई हमदम तो मिले
दिल की धड़कन के
इशारात किसे पेश करूं
दिल की धड़कन के
कोई हमराज़ तो पाऊं
कोई हमदम तो मिले
दिल की धड़कन के
इशारात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी इ जज़ब्बत किसे पेश करूं
ये सुलगते हुए दिन रात किसे पेश करूं
इश्क़ की गर्मी े.

Ishq Ki Garmi E Jazbaat Lyrics in English

Hmm hmm hmm
Hmm hmm hmm
Hmm hmm hmm

Ishq ki garmi e jazbaat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e jazbaat kise pesh karoon
Ye sulagte huye din raat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e jazbaat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e

Husn aur husn ka har naaz hai parde mein abhi
Husn aur husn ka har naaz hai parde mein abhi
Apni nazron ki shikayat kise pesh karoon
Apni nazaron ki shikayat kise pesh karoon
Ishq ke garmi e

Teri aawaaz ke jadoo ne jagaya hai jinhen
Teri aawaaz ke jadoo ne jagaya hai jinhen
Wo tassawur wo khayalat kise pesh karoon
Wo tassawur wo khayalat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e

Ae meri jaan e ghazal
Ae meri imaan e ghazal
Ae meri jaan e ghazal
Ae meri imaan e ghazal
Ab siwaa tere
Ye naghmaat kise pesh karoon
Ab siwaa tere
Ye naghmaat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e

Koi hamraaz to paaoon
Koi hamdam to miley
Koi hamraaz to paaoon
Koi hamdam to miley
Dil ki dhadkan ke
Ishaaraat kise pesh karoon
Dil ki dhadkan ke
Koi hamraaz to paaoon
Koi hamdam to miley
Dil ki dhadkan ke
Ishaaraat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e jazbbat kise pesh karoon
Ye sulagte huye din raat kise pesh karoon
Ishq ki garmi e.

Leave a Comment