Ho Aaj Majhab Koi Lyrics in Hindi & English

Song Name : Ho Aaj Majhab Koi
Album / Movie : Censor 2001
Star Cast : Dev Anand, Hema Malini, Shammi Kapoor, Rekha, Jackie Shroff, Mamta Kulkarni, Johnny Lever, Mukesh Khanna, Ayesha Jhulka, Sharad S. Kapoor, Tara Deshpande
Singer : Kavita Krishnamurthy, Roop Kumar Rathod, Vijeta Pandit, Vinod Rathod
Music Director : Jatin Pandit, Lalit Pandit
Lyrics by : Gopaldas Saxena (Neeraj)
Music Label : Saregama

Ho Aaj Majhab Koi Lyrics in Hindi

हो आज मजहब कोई एक ऐसा नया
आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
हो आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
जिसमे इंसान इंसान बांके रहे आ
जिसमे इंसान इंसान बनके रहे
और गुलशन को गुलशन बनाया जाए
आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
जिसमे इंसान इंसान बनके रहे
और गुलशन को गुलशन बनाया जाए
आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए

ा जिससे बढ़कर कोई किताब नहीं
अरे जिसका मिलता कोई जवाब नहीं
उम्र भर चढ़ कर जो नहीं उतरे
वह नशा है मगर शराब नहीं
उसे प्यार ज़माना कहता है
उसका दीवाना रहता है
यह ऐसा है रंगीन नशा
यह जितना चढे उतना ही मज़ा
यह जितना चढे उतना ही मज़ा
यह जितना चढे उतना ही मज़ा
होंठो पे गुलाब यही तोह है
आँखों में ख्वाब यही तोह है
गालों पे शबाब यही तोह है
घूँघट में हिजाब यही तोह है
होंठो पे गुलाब आँखों में ख्वाब
गालों पे शबाब घूँघट में हिजाब
यही तो है यही तो है
यही तो है यही तो है

इसको पाया मीरा ने
इसको ही गया कबीरा ने
ो हर रूह की आवाज़ है यह
सबसे सुन्दर सझ है यह
जिस से रोशन पडोसी का आँगन रहे
हो जिस से रोशन पडोसी का आँगन रहे
वह दिया हर घर में जलाया जाए
जिसमे इंसान इंसान बनके रहे
और गुलशन को गुलशन बनाया जाए
आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए

ा यह छव भी है और धुप भी है
रूप भी है और अनूप भी है
यह शबनम भी अंगार भी है
यह मेघ भी है मल्हार भी है
अरे इसमें दुनिया की जवानी है
यह आग के भीतर पानी है
यह रूह का एक सरोवर है
खतरे में एक समंदर है
खतरे में एक समंदर है
खतरे में एक समंदर है
इसमें दुनिया की जवानी है
यह आग के भीतर पानी है
यह रूह का एक सरोवर है
खतरे में एक समंदर है
शायर का हसीं तसवुर है
संगीत का एक स्वयम्वर है
शायर का हसीं तसवुर है
संगीत का एक स्वयम्वर है
यह सबको सब कुछ देता है
और बदले में बदले में बदले में
बस दिल लेता है दिल लेता है
बस दिल लेता है दिल लेता है
इसका जो करम आज हो जाए
इसका जो करम आज हो जाए
तो यह महफ़िल भी जन्नत सी हो जाए
तो यह महफ़िल भी जन्नत सी हो जाए
इसका जो करम आज हो जाए
इसका जो करम आज हो जाए
तो यह महफ़िल भी जन्नत सी हो जाए
जिसमे इंसान इंसान बनके रहे
जिसमे इंसान इंसान बनके रहे
और गुलशन को गुलशन बनाया जाए
आज मजहब कोई एक ऐसा नया
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए
दोस्तों इस जहाँ में चलाया जाए.

Ho Aaj Majhab Koi Lyrics in English

Ho aaj majhab koi ek aisa naya
Aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Ho aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Jisme insaan insaan banke rahe aa
Jisme insaan insaan banke rahe
Aur gulshan ko gulshan banaya jaaye
Aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Jisme insaan insaan banke rahe
Aur gulshan ko gulshan banaya jaaye
Aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye

Aa jisase badhakar koi kitab nahi
Are jiska milta koi jawab nahi
Umr bhar chadh kar jo nahi utare
Woh nasha hai magar sharab nahi
Use pyar zamana kehta hai
Uska deewana rehta hai
Yeh aisa hai rangin nasha
Yeh jitna chadhe utna hi maza
Yeh jitna chadhe utna hi maza
Yeh jitna chadhe utna hi maza
Hontho pe gulab yahi toh hai
Aankho mein khwab yahi toh hai
Galo pe shabab yahi toh hai
Ghunghat mein hijab yahi toh hai
Hontho pe gulab aankho mein khwab
Galo pe shabab ghunghat mein hijab
Yahi to hai yahi to hai
Yahi to hai yahi to hai

Isko paya mira ne
Isko hi gaya kabira ne
O har ruh ki aawaz hai yeh
Sabse sundar sajh hai yeh
Jis se roshan padosi ka aangan rahe
Ho jis se roshan padosi ka aangan rahe
Woh diya har ghar mein jalaya jaaye
Jisme insaan insaan banke rahe
Aur gulshan ko gulshan banaya jaaye
Aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye

Aa yeh chhav bhi hai aur dhup bhi hai
Rup bhi hai aur anup bhi hai
Yeh shabnam bhi angar bhi hai
Yeh megh bhi hai malhar bhi hai
Are isme duniya ki javani hai
Yeh aag key bhitar pani hai
Yeh ruh ka ek sarovar hai
Khatare mein ek samandar hai
Khatare mein ek samandar hai
Khatare mein ek samandar hai
Isme duniya ki javani hai
Yeh aag key bhitar pani hai
Yeh ruh ka ek sarovar hai
Khatare mein ek samandar hai
Shayar ka haseen tasavur hai
Sangit ka ek svayamvar hai
Shayar ka haseen tasavur hai
Sangit ka ek svayamvar hai
Yeh sabko sab kuch deta hai
Aur badle mein badle mein badle mein
Bas dil leta hai dil leta hai
Bas dil leta hai dil leta hai
Iska jo karam aaj ho jaaye
Iska jo karam aaj ho jaaye
To yeh mehfil bhi jannat si ho jaaye
To yeh mehfil bhi jannat si ho jaaye
Iska jo karam aaj ho jaaye
Iska jo karam aaj ho jaaye
To yeh mehfil bhi jannat si ho jaaye
Jisme insaan insaan banke rahe
Jisme insaan insaan banke rahe
Aur gulshan ko gulshan banaya jaaye
Aaj majhab koi ek aisa naya
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye
Dosto iss jahan mein chalaya jaaye.

Leave a Comment