Falsafa Yeh Zindagi Ka Lyrics in Hindi & English

Song Name : Falsafa Yeh Zindagi Ka
Album / Movie : Madholal Keep Walking 2010
Star Cast : Subrat Dutta, Neela Gokhle, Pranay Narayan
Singer : Altaf Raja
Music Director : N/A
Lyrics by : Aslam Sani
Music Label : Time

Falsafa Yeh Zindagi Ka Lyrics in Hindi

ये मशाला ही ऐसा था कि हल न कर सका
ये मशाला ही ऐसा था कि हल न कर सका
ऐ जिंदगी मै तुझको मुकम्मल न कर सका

ये मशाला ही ऐसा था कि हल न कर सका
ऐ जिंदगी मै तुझको मुकम्मल न कर सका

फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समझा
फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समजह

कोई आये कोई जाये सब के सब है मुसाफ़िर
कोई आये कोई जाये सब के सब है मुसाफ़िर
चार दिनों से जायदा कोई रहता नहीं है राजी
अजनबी इन लोगो में लगे हर चेहरा अपना
फलसफा यह ज़िंदगी का

मौसम की परवाह किसे है बारिश हो या सर्दी
मौसम की परवाह किसे है बारिश हो या सर्दी
अपने अपने दफ्तर जाने की संको है जल्दी
सबकी आंखों में सपने है और
लागे मन प्यासा प्यासा
फलसफा यह ज़िंदगी का

लम्बे सफर की खातिर यु तो सब के सब आते है
लम्बे सफर की खातिर यु तो सब के सब आते है
कई मुसाफिर रस्ते में ही उतर जाते है
उड़ जाता है रूह का पंछी
मिल जाये मोका ये जरा सा

फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समझा
फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समझा
कितनी साडी बीड़ में इंसा लगे तनहा तनहा

ये मशाला ही ऐसा था कि हल न कर सका
ये मशाला ही ऐसा था कि हल न कर सका
ऐ जिंदगी मै तुझको मुकम्मल न कर सका

ये मशाला ही ऐसा था कि हल न कर सका
ऐ जिंदगी मै तुझको मुकम्मल न कर सका

फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समझा
फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समजह

कोई आये कोई जाये सब के सब है मुसाफ़िर
कोई आये कोई जाये सब के सब है मुसाफ़िर
चार दिनों से जायदा कोई रहता नहीं है राजी
अजनबी इन लोगो में लगे हर चेहरा अपना
फलसफा यह ज़िंदगी का

मौसम की परवाह किसे है बारिश हो या सर्दी
मौसम की परवाह किसे है बारिश हो या सर्दी
अपने अपने दफ्तर जाने की संको है जल्दी
सबकी आंखों में सपने है और
लागे मन प्यासा प्यासा
फलसफा यह ज़िंदगी का

लम्बे सफर की खातिर यु तो सब के सब आते है
लम्बे सफर की खातिर यु तो सब के सब आते है
कई मुसाफिर रस्ते में ही उतर जाते है
उड़ जाता है रूह का पंछी
मिल जाये मोका ये जरा सा

फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समझा
फलसफा यह ज़िंदगी का कोई भी अब तक न समझा
कितनी साडी बीड़ में इंसा लगे तनहा तनहा

Falsafa Yeh Zindagi Ka Lyrics in English

Ye mashala hi aisa tha ki hal na kar saka
Ye mashala hi aisa tha ki hal na kar saka
Ae jindagi mai tujhko mukammal na kar saka

Ye mashala hi aisa tha ki hal na kar saka
Ae jindagi mai tujhko mukammal na kar saka

Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjha
Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjah

Koi aaye koi jaye sab ke sab hai musafir
Koi aaye koi jaye sab ke sab hai musafir
Char dino se jayda koi rahta nahi hai raaji
Ajnabi in logo me laage her chehra apna
Falsafa yeh zindgi ka

Mausam ki parvah kise hai barish ho ya sardi
Mausam ki parvah kise hai barish ho ya sardi
Apne apne daftar jaane ki sanko hai jaldi
Sabki aanko me sapne hai aur
Laage man pyasa pyasa
Falsafa yeh zindgi ka

Lambe safar ki katir yu to sab ke sab aate hai
Lambe safar ki katir yu to sab ke sab aate hai
Kai musafir raste me hi utar jate hai
Udh jata hai ruh ka panchi
Mil jaye moka ye jara sa

Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjha
Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjha
Kitni sari beed me insa lage tanha tanha

Ye mashala hi aisa tha ki hal na kar saka
Ye mashala hi aisa tha ki hal na kar saka
Ae jindagi mai tujhko mukammal na kar saka

Ye mashala hi aisa tha ki hal na kar saka
Ae jindagi mai tujhko mukammal na kar saka

Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjha
Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjah

Koi aaye koi jaye sab ke sab hai musafir
Koi aaye koi jaye sab ke sab hai musafir
Char dino se jayda koi rahta nahi hai raaji
Ajnabi in logo me laage her chehra apna
Falsafa yeh zindgi ka

Mausam ki parvah kise hai barish ho ya sardi
Mausam ki parvah kise hai barish ho ya sardi
Apne apne daftar jaane ki sanko hai jaldi
Sabki aanko me sapne hai aur
Laage man pyasa pyasa
Falsafa yeh zindgi ka

Lambe safar ki katir yu to sab ke sab aate hai
Lambe safar ki katir yu to sab ke sab aate hai
Kai musafir raste me hi utar jate hai
Udh jata hai ruh ka panchi
Mil jaye moka ye jara sa

Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjha
Falsafa yeh zindgi ka koi bhi ab tak na samjha
Kitni sari beed me insa lage tanha tanha

Leave a Comment