Bas Ek Soch Lyrics in Hindi & English

Song Name : Bas Ek Soch
Album / Movie : Tere Bin Laden 2010
Star Cast : Ali Zafar, Pradhuman Singh, Sugandha Garg, Piyush Mishra
Singer : Ali Zafar
Music Director : Ali Zafar
Lyrics by : Ali Zafar
Music Label : Pen Music

Bas Ek Soch Lyrics in Hindi

बस एक सोच से
बन जाए पूरी कहानी
दुनिया चाहे जो बोले
हम को तोह है यह सुनानी
हाँ बस एक सोच से
बन जाए पूरी कहानी
दुनिया चाहे जो बोले
हम को तोह है यह सुनानी
क्या गलत है क्या सही
हमने यह सोचा न कभी
सपने हों पूरे
रह जाए न कोई कमी

जो बस एक सोच से
बन जाए पूरी कहानी

ख्वाब हैं तोह
रंगीन यह जहां
ज़िन्दगी हस्स ती है
आज है तोह कल होंगे कहाँ
अपनी ख़ुशी सस्ती है
हम भी कभी मशहूर हों
थोड़े से मग़रूर हों
पाने को जान तरसती है
सपने हों पूरे
रह जाए न कोई कमी

जो बस एक सोच से
बन जाए पूरी कहानी

सोचा जो वही तो पाना है
कुछ तो कर के दिखाना है
क्या हैं हम
कहाँ अपना ठिकाना है
अब तलक जो न देखि हो
अपने मनन की है मंज़िल वह
हम को उस पार जाना है
सपने हों पूरे
रह जाए न कोई कमी

हाँ बस एक सोच से
बन जाए पूरी कहानी
दुनिया चाहे जो बोले
हम को तोह है यह सुनानी
क्या गलत है क्या सही
हमने यह सोचा न कभी
सपने हों पूरे
रह जाए न कोई कमी

जो बस एक सोच से
बन जाए पूरी कहानी.

Bas Ek Soch Lyrics in English

Bas ek soch se
Ban jaaye poori kahani
Duniya chaahe jo bole
Hum ko toh hai yeh sunaani
Haan bas ek soch se
Ban jaaye poori kahani
Duniya chaahe jo bole
Hum ko toh hai yeh sunaani
Kya galat hai kya sahi
Humne yeh socha na kabhi
Sapne hon poore,
Reh jaaye na koi kami

Jo bus ek soch se
Ban jaaye poori kahani

Khwaab hain toh
Rangeen yeh jahaan
Zindagi hass ti hai
Aaj hai toh kal honge kahan
Apni khushi sasti hai
Hum bhi kabhi mashhoor hon
Thode se maghroor hon
Paane ko jaan tarasti hai
Sapne hon poore,
Reh jaaye na koi kami

Jo bus ek soch se
Ban jaaye poori kahani

Socha jo wohi to paana hai
Kuch to kar ke dikhaana hai
Kya hain ham, kahan apne kadam
Kahan apna thikaana hai
Ab talak jo na dekhi ho
Apne mann ki hai manzil woh
Hum ko uss paar jaana hai
Sapne hon poore,
Reh jaaye na koi kami

Haan bus ek soch se
Ban jaaye poori kahani
Duniya chaahe jo bole
Hum ko toh hai yeh sunaani
Kya galat hai kya sahi
Humne yeh socha na kabhi
Sapne hon poore,
Reh jaaye na koi kami

Jo bas ek soch se
Ban jaaye poori kahani.

Leave a Comment